Friday, October 15, 2021

शिक्षा शास्त्री ईश्वर चन्द्र विद्यासागर

0
महिलाओं की शिक्षा का समर्थन करने वाले और उनके प्रति हो रहे अत्याचारों कुरीतियों के खिलाफ आवाज़ बुलंद करने वाले समाज सुधारक , स्वाधीनता...

भारत को मंदी के दौर से बाहर लाने वाले -मनमोहन सिंह

0
भारत को मन्दी के दौर से बाहर निकाल कर, अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने वाले पूर्व प्रधानमंत्री डॉ.मनमोहन सिंह के लिए आज का दिन...

विकराल बेरोजगारी

0
लॉक और अनलॉक की प्रक्रिया से अगर सबसे ज्यादा असर किसी पर पड़ा है तो वो है अर्थव्यवस्था और रोजगार । बेरोजगारी से न...

आंतरिक पलायन

0
महामारी ने ऐसे बहुत से विषयों पर सोचने के लिए विवश कर दिया है जिन पर शायद ही हम कभी विचार करते। देश में...

खुले नभ में सपने कई

0
यह कविता उन लोगों के ऊपर है जो सपने देखते और उन सपनों के पीछे भागते हैं हर एक उस व्यक्ति की बात कही गई हैं जो महत्वकांक्षी है इसके साथ ही उन लोगों की भी बात कही गई हैं जो स्वार्थ के वशीभूत होकर अपने कुछ निजी सपनों को पूरा करने की होड़ में आम जनता का नुकसान करने से भी नहीं कतराते ।

मौलाना अबुल कलाम आज़ाद की जयंती को राष्ट्रीय शिक्षा दिवस के रूप में मनाया...

0
राष्ट्रीय शिक्षा दिवस 2020, भारत में राष्ट्रीय शिक्षा दिवस मौलाना अबुल कलाम आज़ाद के जन्म दिवस के मौके पर मनाया जाता है। यह दिवस भारत में प्रत्येक वर्ष 11 नवंबर को मनाया जाता है साथ ही मौलाना अबुल कलाम आज़ाद के द्वारा शिक्षा क्षेत्र में किए गए कार्य को याद किया जाता है।

चुनावी राजनीति

0
चुनावी राजनीति करने वाले बस वादे करते हैं ऐसे वादे जो कभी पूरे नहीं होते सत्ता पाने के लिए किसी भी हद तक चके जाते हो और आम जनता इनके जाल में फस जाती है।

वो छोटी सी लड़की…

0
जीवन कैसे गुज़र जाता है पता ही नहीं चलता और समय के साथ बचपन की कुछ छोटी -बड़ी, अच्छी-बुरी आदतें भी बदल जाती है। अगर पीछे रह जाते हैं तो उस समय के कुछ अच्छे क्षण
राम मन्दिर 490 साल पूराना संकल्प

राम मन्दिर 490 साल पूराना संकल्प

0
राम का नाम आते ही बिगड़े काम बन जाते हैं लोगों के। तब राम जी पर आया संकट टलने में क्युं लग गये सदियाँ? पहले उनके मन्दिर को तोड़ा गया फ़िर वज़ूद मिटाने का पुरजोर प्रयत्न किया गया। मन्दिर तोड़ मस्जिद बनाया।
कॉंग्रेस के परिवार की पराकाष्ठा !

कॉंग्रेस के परिवार की पराकाष्ठा !

0
पिछले सप्ताह से राजीव गाँधी फाउंडेशन (आरजीएफ) के माध्यम सोनिया गाँधी, राहुल गाँधी, प्रियंका बाड्रा और कॉंग्रेस के कुछ लोग जबरदस्त चर्चा में आ रहे हैं | कॉंग्रेस अध्यक्ष सोनिया गाँधी आरजीएफ की अध्यक्ष हैं | चंदे के नाम पर सोनिया गाँधी ने 2006-07 में चीन के 90 लाख रूपये आरजीएफ के लिये स्वीकार किया |
हमारा पड़ोसी धोखेबाज चीन

हमारा पड़ोसी धोखेबाज चीन

0
चीन भी हमारा पड़ोसी देश है | और भी कई देश हमारे पड़ोस में हैं जिनकी सीमाएं हमारी सीमा से जुड़ती है | चीन हमारे देश से धनी है इसको हम इंकार नहीं कर सकते | उसके धनी बनने में चीन की विस्तारवादी नीति का महत्वपूर्ण योगदान है | पड़ोस के छोटे देश को जबरन अपने में मिलाकर उसके संसाधनों का दोहन कर आर्थिक स्थिति को मजबूत करना उसका उद्येश्य है |
मजदूरों का पलायन क्यों?

मजदूरों का पलायन क्यों?

0
मजदूरों का पलायन सब दिन होता है | काम की खोज में गाँव से शहर, एक शहर से दूसरे शहर आना जाना लगा रहता है | इस समय उनका पलायन कोरोना महामारी के डर से तो है ही, उसकी आड़ में पलायन की समस्या पर हो रही राजनीति से अधिक खतरा महसूस कर रहे थे | कोरोना महामारी से बचना संभव था लेकिन अगर राजनीति में फँस गये तो जीवन भर मरते रहना पड़ेगा | इस विकट समस्या ने उन्हें गाँव का रुख लेने को बाध्य कर दिया |

हमारे समाचार पत्र के सदस्य बनें

यादृच्छिक पोस्ट

शिक्षा शास्त्री ईश्वर चन्द्र विद्यासागर

0
महिलाओं की शिक्षा का समर्थन करने वाले और उनके प्रति हो रहे अत्याचारों कुरीतियों के खिलाफ आवाज़ बुलंद करने वाले समाज सुधारक , स्वाधीनता...

ताज़ा लेख