चुनावी मुद्दों में उलझी विपक्ष

0
3
चुनावी मुद्दों में उलझी विपक्ष
चुनावी मुद्दों में उलझी विपक्ष

चुनाव के इस दौर में सभी दलों ने अपना अपना काम और भाषण तय कर रखा है। किसको क्या बोलना अथवा करना है यह उन सब को पता है। किसको किस देवी देवताओं की आराधना करनी है यह भी ये लोग जानते हैं। किसको अपना प्रमुख चुनाव प्रचारक बनाना है जिससे किस जाति  का अधिक वोट मिलेगा यह भी सभी जानते हैं। ऐसे माहौल में अगर पूरी तरह से राजनीतिक दलों को या हमारे मीडिया वालों को किसी की खबर पर अत्यधिक नजर डाले हुये हैं तो वो हैं हमारे प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी या कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी

इन सबने क्या कहा वो कहाँ गये किस देवी देवताओं की पूजा की। पूजा करने से पहले क्या किया कहां गये लगभग सबकुछ। और तो और हमारे राहुल गांधी जी आराधना तो करते हैं भगवान् की परन्तु बिना मोदी जी के बारे में बोले या लिखे उनकि पूजा सफल ही नहीं होती और इस तरह से वो अपना मजाक बना लेते हैं।अब आप ही बताइए की अगर हम राहुल गांधी जी को पप्पू न बुलाये तो क्या बोले राफेल विमान कि खरीदी पर बिना किसी सही जानकारी के एक के बाद एक बेतुका बयान दिये जा रहे हैं कभी उसे 520 करोड़ का बताते हैं तो कभी 540 का कभी 700 करोड़ का तो कभी 750 करोड़ का और तो और सत्ता के लिए उनका दिमाग काम करना ही बंद कर दिया है उनको साधारण सी बात समझ में क्यूँ  नहीं आती की इतनी महत्वपूर्ण बात को कभी भी पुरी दुनिया के सामने बताया नहीं जाता। और अपने देश की कुछ ऐसी भीतरी ताकत होती हैं जिसे समय आने पर इस्तेमाल किया जाता है। न कि उसे अपने स्वार्थ के लिए राजनीतिक मुद्दा बनाया जाता है।

राहुल जी अपकी जानकारी के लिए अपको बता दें कि राफेल कि किमत वैसे तो 538 करोड़ रुपये हैं लेकिन ये कीमत भी सिर्फ़ बेस की है। और जब इसमें सारी सुविधाएं उपलब्ध हो जायेगी तो इसकि कीमत उस आधार पर तय हो कर आप तक पहुंच जायेगी। अब नया भाषण राहुल जी का यह आया कि HAL कंपनी से राफैल बनाने का काम छीन कर निजी कंपनी को दे दिया तो जब कभी कोई कंपनी अपने तय सीमा में अपना काम पूरा नहीं कर पाती है तो उसमें और दूसरे कंपनी को भी मिला कर काम पूरा करना पड़ता है। और इस काम को पूरा करने के लिए फ्रांस सरकार ने ही रिलायंस कंपनी को दिया है।

अपके दिमागी कसरत के लिए इतनी जानकारी काफ़ी होगी। यह कुछ ऐसे तथ्य है जिनको सभी के लिए जनना अत्याधिक जरुरी था। वैसे अभी हमारे विपक्ष के पास मुद्दों की कोई कमी नहीं है वो रोज कुछ न कुछ निकाल ही लेती है। कभी आरक्षण का मामला तो कभी सवर्ण वालों का। कभी डीजल पेट्रोल के बढ़ते दामों पर भारत बंद कर तोड़ फोड़ कर देती है तो कभी देश की सुरक्षा पर सवाल खड़े कर देते हैं। कभी किसी सच्चाई को पुरजोर झुठला देती है। तो कभी विजय माल्या जैसे भगोड़ों को ख़ुद बनाके खुद उसका साथ देकर अपने शाषण समय में विजय माल्या की कंपनियों को पुरा सहयोग और समर्थन देकर। आज सरकार पर दबाव बनाने में लगी है कि उसे वापस लाए और उस पर तुरंत कार्यवाही करे।

विपक्ष यह न भूलें की पिछले 4 सालों से सरकार उनके द्वारा किए गए गलतियों को सुधारने में ही तो लगी है। और एक बात जब भी आप किसी दूसरे पर एक उंगली उठाते हैं तो बाकी चार उंगली आपके अपने तरफ ही तो उठती है। इसलिए दूसरों की कामों का हिसाब और जवाब तलब करने से पहले अपने कामों का लेखा जोखा देख लेना चाहिए।


Follow @India71_

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here