चुनावी मुद्दों का खेल 2019

0
6
चुनावी मुद्दों का खेल 2019
चुनावी मुद्दों का खेल 2019

२०१९ के लोकसभा चुनाव को लेकर भाजपा सरकार एवं उसके विरोधियों के बीच घमासान बाक युद्ध छिड़ा हुआ है | दोनों पक्ष अपना अपना एजेंडा तैयार करने में लगे हुए हैं | विरोधियों द्वारा मुस्लिम कार्ड, दलित कार्ड, अल्पसंख्यक कार्ड, आर० एस० एस० का मुद्दा के अलावे धार्मिक एवं जातिवाद उठाये जा रहे हैं | दोनों पक्षों का बयां आता रहा है | परन्तु सारे मुद्दे अपने आप ठन्डे बसते में जा रहे हैं | कूटनीतिक तौर पर देखा जाये तो लगता है की ये सारे मुद्दे भाजपा ही अपने विरोधियों को वह्स के लिए देती है | विरोधियों के पास ऐसा कोई एजेंडा नहीं बन पता है जो भाजपा पर प्रभावी हो | कहना अतिशयोक्ति नहीं होगा की भाजपा विरोधियों को मुद्दा देकर उनको नचा रही है | भाजपा का अपना विकास का मुद्दा है जिसे लेकर वो जनता के बीच जायेगी | विरोधी दल इन मुद्दों पर आपस में उलझ कर रह जाते हैं | कभी वो गठबंधन की बात करते हैं तो कभी गठबंधन को नकारने की भी बात करते हैं | सही नेतृत्व का अभाब विरोधियों में साफ दिख रहा है | कश्मीर के हालत को भाजपा ने खुला छोड़ दिया है | विरोधियों की घबराहट स्पष्ट दिख रहा है | अपने को सक्षम नहीं पा कर अब विरोधी दल विदेशों में एजेंडा तैयार करवा रहे हैं | कांग्रेस तो स्वतंत्रता संग्राम के महानायकों में अपने ही दल के लोह पुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल को नीचा दिखने में लगा है | इससे कांग्रेस की छबि बन रही है या बिगड़ रही है इसका अंदाज़ा उसे नहीं है | आंबेडकर जी को उन्होंने भुला दिया है |

विदेशों से आये एजेंडों को देख कर लगता है की उनका एजेंडा भाजपा विरोधी कम देश विरोधी ज्यादा है | इससे अलगाव वादी एवं आतंकवादियों को बल मिल रहा है |

भारत की जनता सब देख रही है समझ रही है | नेताओं का भाषण और वयान सुन लेती है परन्तु कोई प्रतिक्रिया नहीं व्यक्त करती है | वो तमाशा देख रही है | ध्यान देने की बात है की क्षेत्रीय दलों का क्षेत्रीय मुद्दा होगा जबकि राष्ट्रिय दलों के पास राष्ट्रीय मुद्दा होगा | दोनों में तालमेल का आभाव निश्चित रूप से होगा | ऐसी परिस्थिति तैयार हो रही है कि आम जनता सारे एजेंडों को नकार देगी | वो सही समय पर सही निर्णय देगी | इन्तजार करे | 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here