कांग्रेस कुछ भूल कर रही है !

0
6
कांग्रेस कुछ भूल कर रही है !
कांग्रेस कुछ भूल कर रही है !

तीन राज्यों के विधानसभा के चुनाव में जीत हासिल कर अति उत्साहित कांग्रेस भूल कर रही है कि जनता ने उसे पूरा समर्थन दिया है | उसे वहाँ की जनता की मजबूरी का फायदा मिला है | उसे एक राज्य को छोड़कर दो राज्यों में बहुमत भी नहीं मिला है | चुनावो परान्त उसे दूसरी विरोधी पार्टियों से गठबन्धन कर सरकार बनानी पड़ी है | जनता भाजपा से त्रस्त नहीं थी | भाजपा और कांग्रेस में काँटे की लड़ाई हुई है | भाजपा की हार का एक कारण नोटा (NOTA) भी है जो किसी भी समय वोट में परिवर्तित हो सकता है | वहाँ के लोग क्रमशः रमण सिंह, वसुंधरा राजे एवं शिवराज सिंह चौहान से खफा थे | भाजपा से रुष्ट तभी माना जा सकता था जब मध्य प्रदेश और राजस्थान में भाजपा साफ़ हो जाती | भाजपा अपनी हार मात्र दो-चार प्रत्याशियों की जीत से बचा सकती थी | रमण सिंह एवं वसुंधरा राजे के प्रति आक्रोश तो जगजाहिर था लेकिन शिवराज सिंह के प्रति उतना गुस्सा नहीं था | इन राज्यों में लोक सभा के 2019 के चुनाव के मद्देनजर कांग्रेस ने कुछ नहीं पाया है |

राफेल लड़ाकू विमान सौदा को लेकर कांग्रेस पूरे देश में मोदी की सरकार तथा भाजपा के विरोध में माहौल खड़ी कर रही थी मगर सुप्रीम कोर्ट का निर्णय सरकार के पक्ष में आकर कांग्रेस के विरोधी स्वर पर रोक दिया है | 2019 लोक सभा चुनाव में राफेल विमान खरीद का मुद्दा उठाना कांग्रेस के लिये उल्टा पर सकता है | संवैधानिक संस्थाओं पर उसे विश्वास नहीं था | अब राफेल मुद्दों पर सुप्रीम कोर्ट के आदेश आने के बाद भी विरोध कर रही है | राफेल खरीद को संयुक्त संसदीय समिति से जाँच की माँग से जनता में गलत संदेश जा रहा है |

कांग्रेस को सोचना चाहिये कि उसके समय में आगस्तावेस्टलैण्ड हेलिकॉप्टर डील तय होने से पहले बिचौलिये के साथ कमीशन खोरी का मुद्दा उजागर होने की सम्भावना बढ़ गई है | भाजपा अगले चुनाव में इसको चुनावी मुद्दा बना सकती है | इस डील का मुख्य बिचौलिया ‘क्रिश्चियन मिशेल’ को मोदी सरकार ने साउदी अरब से उठा कर भारत ले आया है | यह भाजपा सरकार की राजनीतिक उपलब्धि है | बिचौलिया ‘क्रिश्चियन मिशेल’ द्वारा उजागर किया जाने वाला राज का असर कांग्रेस पर भारी पड़ सकता है |

कल ही 1984 का सिख विरोधी दंगा मामलों में दिल्ली हाईकोर्ट का आदेश आया है जिससे पूर्व कांग्रेसी सांसद सज्जन कुमार सहित तीन अन्य अभियुक्त को आजीवन कारावास की सजा दी गई है | वैसे यह देश का मुद्दा बनेगा इस की सम्भावना कम है मगर कुछ क्षेत्रों में इसका प्रभाव जरूर होगा |

अतः जरूरी है कि कांग्रेस आत्ममन्थन करे | आने वाला तीन-चार महीना उसके लिये अहम है |
 

Follow @India71_

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here