केजरीवाल का नुस्खा

0
9
केजरीवाल का नुस्खा
केजरीवाल का नुस्खा

केजरीवाल जी ने अपने स्पाइनलेस सरकार को कुछ ताकत देने के लिए माँफी माँगने का नुस्खा अपनाया| इससे उन्हें व्यक्तिगत लाभ तो मिला पर सरकार की हालत जस की तस ही रहीं| कोई उपाए नहीं सूझने पर खुद उन्होंने धरना दे दिया| गैर काँग्रेसी विपक्षी दलो के मुख्यमंत्रियों ने मान लिया की मोदी जी बहुत ताकतवर हैं| जब चाहे किसी भी राज्य मैं अफसरों की हड़ताल करवा सकते हैं अतः केजरीवाल जी के साथ आना उनकी मज़बूरी हो गई|

काँग्रेस के मुख्यमंत्री तो हासिये पर है और एक के साथ तो पार्टी की थोड़ी अनबन भी है| काँग्रेस २०१९ के संसद चुनाब में आम आदमी पार्टी के साथ दिल्ली के तीन सीटों पर चुनाब लड़ने का मन बनाये हुए है| इसीलिए काँग्रेस ने चुप्पी साधना ही उचित समझा| परन्तु कांग्रेसी की यह चुप्पी तो महागठबन्धन की गांठ को ढीली कर सकती है| एक तरह से केजरीवाल का धरना महागठबन्धन मैं काँग्रेस को बेनकाब कर दिया है| इधर अफसरों एबं दिल्ली सरकार के बीच रजामंदी की फुसफुसाहट आ रही है| देखते रहिये केजरीवाल का अगला नुस्खा क्या होता है ?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here