कुलभूषण जाधव की घर वापसी ?

0
5
कुलभूषण जाधव की घर वापसी ?
कुलभूषण जाधव की घर वापसी ?

कुलभूषण जाधव के मामले में अंतर्राष्ट्रीय न्याय अदालत (अ. न्या. अ)  का फैसला पाकिस्तान की रीढ़ की हड्डी में कील ठोक देने वाला सावित हुआ है | अंतर्राष्ट्रीय अदालत के फैसले ने पाकिस्तान के राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय नीति का पर्दाफास कर दिया है | दुनियाँ के सामने वह मुँह दिखाने लायक नहीं रहा |

कुलभूषण जाधव भारतीय नौ सेना का एक अवकाश प्राप्त अधिकारी था और ईरान के चाबहार बंदरगाह पर अपने ब्यापार में लगा था | अवकाश ग्रहण के बाद भारत सरकार के साथ वो जुड़ा नहीं था | पाकिस्तान – ईरान की सीमा से पाकिस्तानियों ने उसे अपहरण कर लिया और भारत के लिये पाकिस्तान में खुफिया एजेंट एवं आतंकवाद पर काम करने के झूठे आरोप में फंसाकर उस पर सैन्य अदालत में मुक़दमा चलाया जहाँ उसे अप्रैल २०१७ में फांसी की सजा दी गई | पाकिस्तान ने जाधव के अपहरण / पकड़ने की कोई जानकारी भारत को देना उचित नहीं समझा | पाकिस्तानी समाचार माध्यम से मिली जानकारी के बाद जब ये भारतीय समाचारों में आया तब भारत सरकार ने पाकिस्तानी राजदूत को बुलाया और अपना विरोध प्रकट किया | बिना सूचित किये जाधव को कोर्ट मार्सल किये जाने एवं फांसी की सजा सुनाये जाने को भारत ने वियना कंवेंसन का उल्लंघन करार देकर जाधव को झूठे आरोपों से मुक्त कर वापस करने का दवाब पाकिस्तान पर डाला | परन्तु पाकिस्तान ने यह कह कर अनसुनी कर दी कि जासूसी एवं आतंकवाद फ़ैलाने वालों को सजा मिलनी हीं चाहिए |

पाकिस्तान द्वारा कुलभूषण जाधव के साथ गलत एवं अमानवीय  व्यवहार तथा अंतर्राष्ट्रीय कानून के उल्लंघन किये जाने के विरोध में भारत ने अंतर्राष्ट्रीय न्याय अदालत द हेग (नीदरलैंड) में मुकदमा दर्ज किया | पाकिस्तान द्वारा काफी विरोध किये जाने के बावजूद अंतर्राष्ट्रीय अदालत ने भारत की अर्जी मंजूर की और १७ जुलाई २०१९ को भारत के पक्ष में फैसला सुनाया | पाकिस्तान का सर नीचा हो गया | अदालत ने जाधव की मौत की सजा पर रोक लगा दी और उसे राजनयिक पहुँच दिये जाने का आदेश दिया | लेकिन पाकिस्तान ने अपनी जनता को भरोसे में लेने के लिए फैसले को अपने पक्ष में बताया और उस अदालत के प्रति आभार प्रकट किया | यहाँ यह कहना जरूरी है कि अंतर्राष्ट्रीय न्याय अदालत का फैसला पाकिस्तान के लिए बाध्यकारी नहीं है | वह उस आदेश को मानने से इनकार भी कर सकता है |

अंतर्राष्ट्रीय न्याय अदालत का फैसला भारत की बहुत बड़ी कूटनीतिक जीत है | भारत की कूटनीति से दुनियाँ के देशों से पाकिस्तान पहले से हीं अलग थलग पड़ चुका है | पाकिस्तान को इस बात की जानकारी है कि इस अदालत के फैसले को इनकार करना उसे कितना महँगा पड़ सकता है | ये सोचकर पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने गुरुवार की रात बयान जारी किया कि कुलभूषण को राजनयिक मदद पाकिस्तान के नियम कानून के अंतर्गत मुहैया कराया जायेगा | वियना संधि के अनुच्छेद ३६ (१ बी) के तहत उनके अधिकारों के बारे में जानकारी दे दी गई है | एक तरफ पाकिस्तान भारत के आगे बेवस हुआ है तो दूसरी तरफ वहां की सरकार और समाचार एजेंसियां अंतर्राष्ट्रीय न्याय अदालत के फैसले को लेकर खुशियाँ बाँट रहा है | इस पर भारत के विदेश मंत्रालय ने तंज कसा है | उसने बयान जारी कर कहा है कि अ. न्या. अ. का फैसला ४२ पृष्ठों का है | अगर वो पूरा नहीं पढ़ सकते तो प्रेस विज्ञप्ति ही पढ़ लें |

पाकिस्तान के बयान से अब लगता है कि वो कुलभूषण की मौत की सजा पर पुनर्विचार के लिए भी तैयार हो गया है जैसा कि अ. न्या. अ. द्वारा आदेशित है | अ. न्या. अ. ने अपने फैसले में कहा है कि पाकिस्तान कुलभूषण की सजाये मौत पर प्रभावी तरीके से पुनर्विचार करे साथ ही उसे राजनयिक मदद मुहैया करवाये | भारत की यह बड़ी जीत है | पाकिस्तान अगर किसी परिस्थिति वश फैसले को इनकार करता है तो वह दो तरफ से चोट खायेगा | पहला तो उसे भारत का सर्जिकल स्ट्राइक  बर्दास्त करना पड़ेगा और दूसरा अभी तो कटोरा लेकर देश देश घूम रहा है इसके बाद उसे अपने देश से बाहर निकलना मुश्किल हो जायेगा | अभी तो उसकी कथनी और करनी में फर्क है | इसके बाद न तो उसकी कथनी रहेगी और करनी की तो कोई उम्मीद ही नहीं की जा सकती | इसी विवशता ने उसे कुलभूषण पर नरम होने के लिए मजबूर किया है |

पिछली घटनाओं से तो पाकिस्तान की इस नरमी पर विश्वास करना जल्द्वाजी हो सकता है | इमरान खान को अमरीकी दौरे पर जाना है | राष्ट्रपति ट्रम्प के कोप को कम करने के लिए उसने आतंकी सरगना हाफिज सईद को गिरफ्तार भी कर लिया है | सम्भव है अ. न्या. अ के फैसले को मान लेना उसकी एक दूसरी कड़ी हो | इसलिए भारत को पाकिस्तान पर भरोसे के बजाय अपनी कूटनीति पर अमल करते हुए उसकी हर चाल पर नजर रखने की जरूरत है | कुलभूषण जाधव की घर वापसी का इन्तजार हर भारतीय को है | वापसी की प्रक्रिया के आगे बढ़ने से हम सभी खुस हैं | जय हिन्द जय भारत

Follow @India71_

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here