पेड़ बचाओ जीवन बचाओ

0
3
पेड़ बचाओ जीवन बचाओ
पेड़ बचाओ जीवन बचाओ

प्रकृति ने हमें बहुत कुछ दिया है | जिसमे सबसे मूल्यवान पदार्थ पेड़ है | हमारे जीवन की हर छोटी या बड़ी जरुरत पेड़ से ही पूरी होती है | प्राचीन समय में पेड़ को हरा सोना भी कहा जाता था | पेड़ों से ही हमें प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से हमारे जीवन की हर सुख सुविधाएँ पूर्ण होती है | ओक्सीजन, पानी, अनाज, सुख और सजावट की चीजें सब पेड़ों से ही तो मिलता है |

पेड़ों के कारण मनुष्य, पशु, पक्षी प्राकृतिक सम्पदा अथवा मौसम इन सबका संतुलन बना हुआ है | सभी के जीवन का अस्तित्व इसी पर निर्भर है |

पेड़ों के बिना किसी भी जीव के जीवन की कल्पना भी असम्भव है | और तो और पेड़ों का कोई विकल्प भी नहीं है |

लकिन आज हम क्या कर रहे हैं ? अपने जीवन के उस आधार को ही समाप्त कर रहे हैं | जिसपे हमारा जीवन निर्भर है | आज हमें हर तरफ कंक्रीट के जंगल ही नज़र आ रहे हैं | हम पेड़ों को काट रहे हैं जिससे जंगल के जंगल साफ़ हो रहे हैं | हर छोटी बड़ी जरुरत पेड़ों से ही पूरा कर रहे हैं |

क्या हमें एहसास नहीं हैं प्रकृति हमें बार बार चेतावनी दे रही है सावधान कर रही है | हम देख भी रहें है कि मौसम कभी भी बदल जाता है | कहीं ठंढ नहीं परती तो कहीं गर्मी और वर्षा नहीं होती कहीं बार बार भूकम्प आता है बाढ़ का भी खतरा हमेशा बना रहता है | हम इन प्राकृतिक विनाशों को देखकर भी नहीं समझ पाते हैं |

इन सबसे बचने अथवा संभलने के लिए आज भी हमारे पास छोटा ही सही एक रास्ता तो है | हम जहाँ भी खली जगह या मैदान देखें तो हमें वहां कोई ना कोई पेड़ लगाना चाहिये | किसी भी जगह को खाली नहीं छोड़ना है | हर रास्ता मैदान बाग़ बगीचा गारों के छत सभी जगहों पर छोटा या बड़ा पेड़ लगाना चाहिये | ये हम जानते हैं की पेड़ काटेंगे क्योंकि हमारी हर जरुरत इसीपर निर्भर है | हम अपनी अधिकांश सुख सुविधाएँ इसी से पूरी होती है | हम अपनी जरूरतों से किनारा नहीं कर सकते हैं, लकिन आज की जरुरत को पूरा करने के बाद कल की जरुरत को पूरा करने की तैयारी भी हमें ही करनी है | उसके लिए नए नए पेड़ लगाने की प्रक्रिया भी हमें ही करनी पड़ेगी | कल की तैयारी जिम्मेदारी हमारी |

“पेड़ों से है प्रकृति की सुन्दरता

प्रकृति से ही जीवन आधार हमारा

इसपे निर्भर संसार है सारा

पर्दों से ही हर सपना पूरा

इसको बचाना संकल्प हमारा” |

Follow @India71_

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here