प्रियंका गांधी का भविष्य ?

0
93
प्रियंका गांधी का भविष्य ?
प्रियंका गांधी का भविष्य ?

उन दिनों प्रियंका गांधी विदेश में थी| इधर उनको कांग्रेस में महासचिव का पद देकर  २०१९ के लोकसभा के चुनाव के लिये पूर्वी उत्तरप्रदेश का चुनाव प्रभारी बनाया गया| प्रियंका गांधी के लिये यह कोई चौकाने वाली बात नहीं थी| उत्तरप्रदेश सबसे बड़ा राज्य है जहाँ ८० लोकसभा की सीटें हैं| पूर्वी उत्तरप्रदेश में करीब ४२ सीटें आती है| २०१४ के लोकसभा चुनाव में कौंग्रेस को मात्र दो सीटें हीं मिल पायी थी जबकि वह समाजवादी पार्टी के साथ मिल कर चुनाव लड़ी थी| इस वार के चुनाव में खासकर उत्तरप्रदेश में कांग्रेस की प्रतिष्ठा दाव पर लगी है| इस चुनाव में समाजवादी पार्टी ने कांग्रेस से दूर रहने का फैसला ले लिया है| वह बहुजन समाजवादी पार्टी के साथ गठबंधन में है| उत्तरप्रदेश में त्रिकोणीय मुकाबला होने जा रहा है| पूर्वी उत्तरप्रदेश भाजपा का गढ़ माना जाता है जिसका प्रभार कांग्रेस की ओर से प्रियंका को दिया गया है| अब देखना है कि प्रियंका क्या करिश्मा कर पाती है|

पिछले चुनावों में प्रियंका रायबरेली में अपनी माँ तथा अमेठी में अपने भाई के लिये चुनाव प्रचार करती आ रही थी लेकिन इस वार मामला कुछ  पेचीदा है|  सफलता / असफलता उनका भविष्य निर्धारित करेगा| उनके पिता राजीव गांधी की शहादत का मुद्दा लगभग समाप्त है| सोनिया गांधी पूर्ण स्वस्थ नहीं है| विपक्ष उन्हें प्रियंका वाड्रा गांधी के नाम से उनका परिचय देगा| उनके पास कोई दमदार एजेंडा भी नहीं है और न हीं किसी प्रमुख दल से सहयोग मिलने की संभावना है| ऐसी विपरीत परिस्थितियों में उनका व्यक्तिगत संपर्क हीं कुछ काम आ सकता है| एक महिला होने का लाभ भी प्रियंका को मिलने की संभावना है|

यहाँ विचारणीय बात यह है कि पूर्वी उत्तरप्रदेश का हीं प्रभार प्रियंका को क्यों दिया गया| परिवार में प्रियंका सब दिन से हावी रहती आई है| जब कभी भी पार्टी अपनी अंदुरुनी विवाद में फँसी है उसके समाधान में उनकी भूमिका अहम रही है| पिछले हीं दिनों मध्यप्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की कठिन जीत के बाद मुख्यमंत्रियों के चयन में प्रियंका की हीं चली| इधर कांग्रेस की गिरती लोकप्रियता से उबड़ने के लिये कांग्रेसीयों द्वारा प्रियंका को लाने की आवाज उठायी जाने लगी थी| इस तरह कांग्रेस में सत्ता के लिये परिवार से दूसरा विकल्प लाना लाजमी था| पूर्वी यु.पी. प्रियंका के लिये परीक्षा का केन्द्र है| असफलता की स्थिति में प्रियंका का सितारा सदा के लिये डूब सकता है| ऐसी परिस्थिति उत्पन्न होने पर राहुल गांधी का विकल्प परिवार में कोई नहीं होगा| प्रियंका अगर सफल होती है तो राहुल पीछे चलें जायेंगे|


Follow @India71_

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here