आधुनिक सुविधाएं और आधुनिक कनेक्टीविटी मिलने से पश्चिमी यूपी का सामर्थ्य और बढ़ रहा है। – प्रधानमंत्री

0
33

सोमवार 7 दिसंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से आगरा मेट्रो प्रोजेक्ट के निर्माण कार्य का उद्घाटन किया जिसमें उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी मौजूद रहे। एएनआई के अनुसार इस परियोजना की अनुमानित लागत 8,379.62 करोड़ रुपये होगी और जो कि 5 सालों में पूरी होगी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उद्धघाटन के पश्चात अपने वक्तव्य के माध्यम से लोगो को संबोधित करते हुए कहा कि ‘आगरा के पास पुरातन पहचान तो हमेशा रही है, अब इसमें आधुनिकता का नया आयाम जुड़ रहा है। सैकड़ों वर्षों का इतिहास संजोए ये शहर अब 21वीं सदी के साथ कदम-ताल मिलाने के लिए तैयार हो रहा है’। साथ ही उन्होंने कहा, ‘उत्तर प्रदेश के साथ ही पूरे देश में जिस गति और स्तर पर मेट्रो नेटवर्क पर काम हुआ, वो इस सरकार की पहचान और प्रतिबद्धता दोनों को दर्शाता है’। पीएम नरेंद्र मोदी ने मेट्रो कार्य की प्रसन्नता करते हुए कहा कि ‘आज देश के 27 शहरों में मेट्रो का काम या तो पूरा हो चुका है या फिर काम अलग-अलग चरणों में हैं। यूपी की ही बात करे तो आगरा मेट्रो सुविधा से जुड़ने वाला ये यूपी का सातवाँ शहर है’। इसके बाद पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा, ‘आधुनिक सुविधाएं और आधुनिका कनेक्टीविटी मिलने से पश्चिमी यूपी का ये सामर्थ्य और बढ़ रहा है। देश का पहला रैपिड रेल ट्रांसपोर्ट सिस्टम मेरठ से दिल्ली के बीच बन रहा है। दिल्ली-मेरठ के बीच 14 लेन का एक्सप्रेस-वे भी जल्द ही इस क्षेत्र के लोगों को सेवा देने लगेगा’।

इसके साथ ही उन्होंने कहा, ‘नेशनल इंफ्रास्ट्रक्चर पाइपलाइन प्रोजेक्ट के तहत 100 लाख करोड़ रुपए से अधिक खर्च करने की तैयारी है। मल्टी-मॉडल कनेक्टिविटी इन्फ्रास्ट्रक्चर मास्टर प्लान पर भी काम किया जा रहा है। कोशिश है कि देश के इंफ्रास्ट्रक्चर को बेहतर बनाने के लिए पूरी दुनिया से निवेश आकर्षित किया जाए, शहरों का जीवन आसान बनाने के लिए आधुनिक पब्लिक ट्रांसपोर्ट से लेकर हाउसिंग तक चौतरफा काम चल रहा है। यहां आगरा से ही प्रधानमंत्री आवास योजना की शुरुआत हुई थी। इस योजना के तहत शहरी गरीबों के लिए 1 करोड़ से ज़्यादा घर स्वीकृत हो चुके हैं’। साथ ही उन्होंने कहा कि मध्यम वर्ग के लिए भी पहली बार घर खरीदने के लिए मदद दी जा रही है। अब तक साढ़े 12 लाख से ज़्यादा शहरी मध्यम वर्गीय परिवारों को भी घर खरीदने के लिए लगभग 28 हज़ार करोड़ रुपए की मदद दी जा चुकी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here