बिहार में धान की कुटाई पर सरकारी खरीद न होने से किसान नाराज

0
28

भारत में शीत ऋतु का आगमन हो चुका है और इसी के साथ धान कुटाई भी शुरू हो गई है। जिसमें बिहार के किसान धान की खरीद न होने पाने से किसान नाराज है. उनका कहना है कि धान की कुटाई शुरू हो चुकी है लेकिन सरकारी खरीद अभी भी न के बराबर हो रही है. जिससे उन्हें मजबूरन अपनी धान की उपज को कम दामों पर ही बेचना पड़ रहा है। ज़ाहिर है आज बिहार विधानसभा चुनाव में तीसरे व अंतिम चरण के चुनाव है। और अब बस परिणाम आने की देरी है। बिहार चुनाव मे सभी पार्टियों ने अपना-अपना मेनिफेस्टो भी बिहार की जनता के सामने रखा और इसी में किसानों की उपज भी बड़ा मुद्दा रही है।

लेकिन फिर भी किसानों को सरकारी खरीद नहीं हो पाने से उन्हें नुकसान उठाना पड़ रहा है. इसके कारण राज्य के किसानों को धान महज 800-900 रुपये प्रति क्विंटल ही बेचना पड़ रहा है. जबकि इसी वर्ष जून में ही केंद्र सरकार ने धान का न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) 53 रुपये प्रति क्विंटल बढ़ाकर 1,868 रुपये प्रति क्विंटल कर दिया था. लेकिन बिहार के किसानों को ये लाभ नहीं मिल रहा है, जिससे किसान नाराज है। गौरतलब है कि बिहार चुनाव में एनडीए और राजद के महागठबंधन ने किसानों से जुड़े मुद्दों को जोर-शोर से उठाया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here