पुलिस ने राहुल-प्रियंका का काफिला ग्रेटर नोएडा में रोका, हाथरस के लिए पैदल हुए रवाना

0
13
पुलिस ने राहुल-प्रियंका का काफिला ग्रेटर नोएडा में रोका, हाथरस के लिए पैदल हुए रवाना
पुलिस ने राहुल-प्रियंका का काफिला ग्रेटर नोएडा में रोका, हाथरस के लिए पैदल हुए रवाना

हाथरस गैंगरेप मामले को लेकर राजनीती तेज हो गई है। पीड़िता के परिजनों से मुलाकात के लिए हाथरस जा रहे कांग्रेस नेता राहुल गांधी और प्रियंका गांधी के काफिले को पुलिस ने ग्रेटर नोएडा में रोक दिया है। इसके साथ ही पुलिस द्वारा कांग्रेसी कार्यकर्ताओं पर लाठीचार्ज भी किया गया है। प्रियंका गांधी उत्तर प्रदेश की प्रभारी भी हैं। पुलिस द्वारा काफिले की गाड़ियां रोके जाने के बाद राहुल और प्रियंका कड़े सुरक्षा घेरे में अब पैदल ही हाथरस के लिए निकल पड़े हैं।

नोएडा पुलिस ने 0 प्वॉइंट से यमुना एक्सप्रेस-वे पर चढ़ने के लिए सभी लेन बैरिकेड लगाकर बंद कर दी हैं। कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने जब बैरिकेड हटाने की कोशिश तो पुलिस फोर्स और कांग्रेसियों के बीच धक्का-मुक्की हुई। पुलिस द्वारा काफिले की गाड़ियां रोके जाने के बाद राहुल और प्रियंका कड़े सुरक्षा घेरे में कांग्रेस कार्यकर्ताओं के साथ पैदल ही हाथरस के लिए निकल पड़े हैं।

हालात को काबू करने के लिए पुलिस लाइन से और फोर्स जीरो प्वॉइंट पर बुलाया गया है। दूसरी ओर नोएडा और ग्रेटर नोएडा की ओर से कांग्रेसियों की भीड़ भी मौके पर पहुंच रही है।

गैंगरेप पीड़िता के परिवार से मुलाकात करने के लिए हाथरस जा रहे राहुल गांधी और प्रियंका गांधी का काफिला डीएनडी से तो निकल गया, लेकिन ग्रेटर नोएडा जीरो प्वॉइंट पर पहुंचते ही रोक दिया गया। इसके चलते ट्रैफिक जाम लग गया। राहुल गाँधी और प्रियंका गांधी को रोकने लिए ग्रेटर नोएडा में जीरो पॉइंट और जेवर टोल प्लाजा पर पर भारी पुलिस फोर्स तैनात किया गया है। उत्तर प्रदेश में महिलाओं के प्रति बढ़ रहे अपराध के खिलाफ गुरुवार सुबह से ही हजारों की तादाद में कांग्रेस कार्यकर्ता डीएनडी फ्लाईओवर पर भी प्रदर्शन कर रहे हैं। हालात को काबू करने के लिए डीएनडी पर भारी संख्या में पुलिस बल तैनात है।

प्रियंका गांधी ने उत्तर प्रदेश के हाथरस जिले में गैंगरेप और हैवानित की शिकार हुई दलित पीड़िता का पुलिस द्वारा मंगवार देर रात अंतिम संस्कार किए जाने को लेकर बुधवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का इस्तीफा मांगा था और आरोप लगाया कि राज्य की भाजपा सरकार में सिर्फ अन्याय का बोलबाला है।

उन्होंने ट्वीट कर कहा, ”रात को 2.30 बजे परिजन गिड़गिड़ाते रहे, लेकिन हाथरस की पीड़िता के शरीर को उप्र प्रशासन ने जबरन जला दिया। जब वह जीवित थी तब सरकार ने उसे सुरक्षा नहीं दी। जब उस पर हमला हुआ सरकार ने समय पर इलाज नहीं दिया। पीड़िता की मृत्यु के बाद सरकार ने परिजनों से बेटी के अंतिम संस्कार का अधिकार छीना और मृतका को सम्मान तक नहीं दिया। घोर अमानवीयता। आपने अपराध रोका नहीं बल्कि अपराधियों की तरह व्यवहार किया। अत्याचार रोका नहीं, एक मासूम बच्ची और उसके परिवार पर दोगुना अत्याचार किया। योगी आदित्यनाथ, आप इस्तीफा दो। आपके शासन में न्याय नहीं, सिर्फ अन्याय का बोलबाला है।”

गौरतलब है कि हाथरस में गैंगरेप की शिकार 19 वर्षीय दलित लड़की की मंगलवार सुबह दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में मौत हो गई थी। हाथरस जिले के चंदपा थाना क्षेत्र स्थित एक गांव में 14 सितंबर को लड़की के साथ कथित तौर पर गैंगरेप की वारदात हुई थी। पुलिस ने इस मामले में चार आरोपियों को गिरफ्तार किया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here