हाथरस सामूहिक बलात्कार पीड़िता को ‘ क्रूर सरकार ने मार डाला’ – सोनिया गांधी

0
34
हाथरस सामूहिक बलात्कार पीड़िता को ' क्रूर सरकार ने मार डाला' - सोनिया गांधी
हाथरस सामूहिक बलात्कार पीड़िता को ' क्रूर सरकार ने मार डाला' - सोनिया गांधी

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने बुधवार को हाथरस गैंगरेप पीड़िता की मौत पर योगी आदित्यनाथ सरकार पर हमला करते हुए कहा कि वह “मरी नहीं, बल्कि निर्मम सरकार द्वारा हत्या की गई” और “उसके शरीर को जबरन आग के हवाले कर दिया गया”।

“इस देश में करोड़ों लोग हाथरस की क्रूर घटना पर उदास और गुस्से में हैं, जो हमारे समाज पर कलंक है। मैं पूछना चाहती हूं, क्या एक लड़की होने एक अपराध है? क्या एक गरीब की लड़की होना अपराध है?  उत्तर प्रदेश सरकार ऐसा क्या कर रही थी कि वे न्याय मांगने वाले परिवार की आवाज नहीं सुन सके? उन्होंने मामले को दबाने की कोशिश की। सोनिया गांधी ने एक वीडियो बयान में कहा, पीड़िता को समय पर सही चिकित्सा सुविधाएं मुहैया नहीं कराई गईं।

सोनिया गाँधी ने 19 वर्षीय पीड़िता को जिसकी मंगलवार को दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में मौत हो गई, उसे हाथरस की निर्भया कहा।

“एक बेटी हमारे बीच से चली गयी है। मैं कहना चाहती हूं कि हाथरस की निर्भया की मौत नहीं हुई, उसकी हत्या एक क्रूर उत्तर प्रदेश सरकार, उसके प्रशासन और उसकी उपेक्षा ने की है । उसने कहा, जब वह (पीड़िता) जीवित थी, उसे न्याय नहीं दिया गया, उसकी रक्षा नहीं की गई। सोनिया गांधी ने आरोप लगाया कि पीड़िता का अंतिम संस्कार जबरदस्ती किया गया और उसके शव को उसके आवास पर नहीं ले जाया गया।

पीड़िता को उसके परिजनों को नहीं सौंपा गया। रोते हुए मां अपनी बेटी को अंतिम विदाई नहीं दे सकी। यह बड़ा पाप है। गांधी ने कहा, उसका जबरदस्ती अंतिम संस्कार किया गया। यह किस तरह का न्याय है?  यह कैसी सरकार है? आपको लगता है कि आप कुछ भी कर सकते हैं और यह देश चुप रहेगा। नहीं, यह देश आपके अन्याय के खिलाफ बोलेगा।

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने भी इस घटना को लेकर उत्तर प्रदेश सरकार की खिंचाई की थी।

उन्होंने कहा, “यह सब दलितों को दबाने और समाज में उनका स्थान दिखाने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार की शर्मनाक चाल है। हमारी लड़ाई इस घृणित सोच के खिलाफ है।”

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने कहा कि योगी आदित्यनाथ को मुख्यमंत्री पद पर बने रहने का कोई नैतिक अधिकार नहीं है।

उत्तर प्रदेश सरकार ने बुधवार को घोषणा की कि हाथरस सामूहिक दुष्कर्म पीड़िता के परिजनों को अनुग्रह राशि के रूप में 25 लाख रुपये, एक घर और परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी दी जाएगी।

सरकार ने मामले की जांच के लिए तीन सदस्यीय एसआईटी बनाई है और कहा है कि मामले की सुनवाई फास्ट ट्रैक कोर्ट में होगी।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए पीड़िता के परिवार से बात की।

मंगलवार को सफदरजंग अस्पताल में पीड़िता की मौत हो गई । उसे सोमवार को अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी मेडिकल कॉलेज से अस्पताल लाया गया ।

हाथरस सामूहिक दुष्कर्म पीड़िता का अंतिम संस्कार बुधवार तड़के उसके पैतृक स्थान पर किया गया।घटना में शामिल चारों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here