आज से शुरू है छठ महापर्व

0
53

हिन्दू धर्म में पूर्वांचलों के 4 दिन का छठ महापर्व आज से नहा खाए से शुरू हो गया है। छठ बिहार, झारखंड और पूर्वी उत्तर प्रदेश का सबसे बड़ा त्योहार माना जाता है। छठ एक मात्र ऐसा पर्व है जिसमें बिना मूर्ति के पूजा की जाती है। इसमें ब्रती सूर्य को अर्घ देते है। खास बात ये है कि यह पर्व किसी भी लिंग के लिए बाधित नहीं है इसे आदमी या औरत कोई भी श्रद्धा भाव से व्रत रख सकते है। ये पर्व चार दिन चलता है। पहले दिन यानी इस बार 18 नवंबर को नहाय-खाय है, 19 को खरना, 20 को छठ पूजा और 21 को सुबह सूर्य को अर्घ्य दिया जाएगा। ये प्रकृति के प्रति आभार प्रकट करने का महान पर्व है। इसमें वर्ती तीन दिनों तक बिना अन्न और जल के उपवास रखते है।

क्यों महत्वपूर्ण होता है छठ पर्व?

हिन्दू धर्म के अनुसार सूर्य को ग्रंथों में छठ में ऐसा भगवान माना है जिसे हम खुद देख सकते हैं। जाहिर है सूर्य ऊर्जा का स्रोत होता है और सूर्य की किरणों से सभी सजीव वस्तुओ को उर्जा मिलती है। तथा अगर हिन्दू धर्म के ज्योतिष के नजरिए से देखा जाए तो सूर्य आत्मा का ग्रह माना गया है औऱ सूर्य पूजा आत्मविश्वास जगाने के लिए की जाती है। गौरतलब है इस बार छठ करने वाले वर्तियों की सबसे बड़ी मनोकमाना यहीं होगी कि कोरोना वायरस से पुरी दुनिया को राहत मिलें!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here